बेस्ट तुम्हारी कमी शायरी [BEST & LATEST] Miss You Shayari / तेरी कमी शायरी [FEBRUARY 2021]

तुम्हारी कमी शायरी: आज हम आप सब के लिए तुम्हारी कमी शायरी और तुम्हारी कमी शायरी इन हिंदी लेके आए है आप में से बहुत से लोग तुम्हारी कमी शायरी का इंतजार कर रहे होंगे क्योंकि बहुतों को उनकी गर्ल फ्रेंड य बॉयफ्रेंड छोड़ कर चले गए होंगे और इस वजह से वे उदास और उनकी कमी खलती होगी और उनकी याद में आप तुम्हारी कमी शायरी को अपने स्टेटस पर लगा सकते है जिससे आपका थोड़ा सा दर्द कम हो सकता है बाकी आपका भाई आपके साथ है ही, जो आपके लिए ये पोस्ट लेके आया है तो इस पोस्ट को पढ़ लो ।

तुम्हारी कमी शायरी, किसी की कमी शायरी,  प्यार में कमी शायरी, अपनी कमी पर शायरी,  मेरी कमी शायरी,  आपकी कमी शायरी,  तुम्हारी बहुत याद आती है शायरी
Miss You Shayari

तुम्हारी कमी शायरी/ Miss You Shayari

अफवाह उड रही है
मेरे पागल होने की,
अफवाह उड रही है।
मेरे पागल होने की,
किसी को क्या पता
मुझे इसक हो रहा है।

उस एक फोन नंबर की कमी
आन भी खलती हैं जिससे,
मन हल्का करने के लिए बात की जा सके
जिसके फुरसत के लम्हों में
तुम अपने दर्द को घोल सको
जो बिखरने पर तुम्हें समेट कर थाम ले।

तलाश कर मेरी कमी को अपने दिल में एक बार
दर्द हो तो समझ लेना अभी बाकी हैं।
हमारे बीच कुछ रिश्ता है।

होठो पे हंसी और आंखो मे नमी है।
रूह भी कहती तेरी ही कमी है 
मुझे तेरी ही कमी है ।

तुम्हारी कमी शायरी 2021


चाहतों में मेरी ही कोई न कोई कमी ज़रूर थी,
जो जाते वक्त एक बार भी पलट के ना देखा उसने।

मेरी ख़ामोशी को तुम मेरी बेबसी मत समझना,
तनहाईयाँ पसंद है अब मुझे, इसे अपनी कमी मत
समझना।

तुम्हारे दिए हर दर्द पर मुस्कराते ही रहेंगे
भले ही तुम मेरी आँखों में नमी ढूँढते रहना
मुझे तुमसे कल भी मोहब्बत थी और कल भी रहेगी
भले ही तुम मुझमें कितनी भी कमी ढूँढते रहना

आप जिसको चाहेंगे वो महस आपकी खूबियों को ही
चाहेगा मगर जो आपको चाहेगा वो आपकी कमियों 
को भी चाहेगा।

बेस्ट तुम्हारी कमी शायरी


सूरन ढल रहा है अर साथ सबकुछ ढल रहा
है,पर तुमसे मिलन कि उम्मीद अब भी मेरे
सीने में जल रहा है।
की मुझको मिल गया सब कुछ,
पर आज भी एक तेरी कमी मुझे खल रहा है।

मुझे तनहाई इस कदर अच्छी लगती है,
ग़र तनहा ना रहूँ कभी तो कुछ कमी सी लगती है।

कमी ती कुछ नहीं फिर भी
सब कुछ पूरा हौकर,सब अधूरा सा लगता है।

कमी ती कुछ नहीं फिर भी
कमी सी लग रही है
बिन तेरे आंखो मे नमी सी लग रही है
कमी तो कुछ नहीं फिर भी
कमी सी लग रही है
जिंदा तो है पर जीने में वो बात
नहीं लग रही है
कमी तो कुछ नहीं फिर भी
कमी सी लग रही है।

बेस्ट तुम्हारी कमी शायरी 2021


कमी तो सब में होती है,
उसे सुधारना सीखो,
जो गलतियां हुई हो,
उसका विश्लेषण स्वयं करो।

कमी ती कुछ नहीं फिर भी
सब कुछ है पास मेरे, एक मशहूर किताब हूँ मैं
दौलत, शीहरत की दुनियां में लाज़वाब हूँ मैं
दिखावे की झूठी जंजीरीं से आजाद हूँ मैं
कमी ती कुछ नहीं, फिर भी बर्बाद हूँ मैं।

कमी तो कुछ नही फिर भी,
आंखों की नमी हर दम कहती हैं...
तुम होते तो,
जिंदगी अधुरी ना होती।

कमी तो कुछ नही फिर भी,
आंखों की नमी हर दम कहती हैं
तुम होते तो,
जिंदगी अधुरी ना होती।

तुम्हारी कमी शायरी इन हिंदी


कमी तो कुछ नही फिर भी
तेरा साथ,तेरा एहसास
तेरा प्यार, तेरा दुलार
हर पल सताता है।

उनके चाहने वाले इतने हो गए थे
कि उन्हें एहसास ही नहीं होती थी हमारी कमी
की।

जिस्म मर जाते अक्सर रूह नहीं मरती
किसी के चले जाने दुनियां नहीं रुकती
आते जाते है लोग इस जहां की असूल-ए-जिंदगी में
पर जाने वाली की कमी कभी नहीं भरती।

लाखों मिल जाएंगे तुझे बहुत सी महफ़िलों मे
पर वो मेरी नाजुक सी कमी तुझे खटकेगी जरूर ।

तुम्हारी कमी शायरी इन हिंदी 2021


आज कल दर्द की कमी सी लग रही है,
फिर भी आंखीं में नमी सी लग रही है।

होंठो की हंसी और आँखों की नमी हो तुम
जिसे शब्दो में बयाँ करना नामुमकिन है
मेरी ज़िन्दगी की वो एक इकलौती
कमी हो तुम।

मैंने हर अच्छाईयाँ ढूढा खुद में बस रह गई,
तो इक कमी वो सिर्फ आप हो,
जो मुझ में नहीं हो।

तुम मेरे लिए धुप की वो किरण हो,
जो "vitamin D" की कमी पूरा करती हैं।

तुम्हारी कमी शायरी हिंदी


न प्रेम की कमी है न मय की कमी है।
पास मेरे बस समय की कमी है।

आप किसी के लिए अपना सबकुछ दाँव लगा देते है,
और उनके पास आपके लिए वक़्त तक नही होता ।

कसूर तो बस किस्मत का रहा,
ख़ता ना उनकी रहीं ना हमारी।।

किसी की कमी शायरी


उन्होंने अकेले जीना सीख लिया,
और हमने ग़म पीना सीख लिया।।

आख़िर उसने कह दिया
जो दिल के किसी कोने में था पनप रहा
आख़िर उसने कह दिया
जो मुस्कुराहट के पर्दों में था छिपा
न गिला न शिकवा न कोई सितम
जो मेरा ज़हन को खबर थी
ये सफ़र मुकम्मल नहीं होना था।

रोया ना करो हल्का मुस्कुराया करो,
छोड़ते वक़्त बुरे ना भी हो तो बन जाया करो |

प्यार में कमी शायरी 


पता नही मन क्यों उदास सा है।
लिखने का मन तो था
पर ना मुद्दा कोई खास सा है।
बस इतना है कहना
की दर्द आज कोई और ना देना
कल दिया था जो वो तो फिर भी बर्दाश्त सा है।

वाकई खूबसूरत है तेरे बगैर ये दुनिया
गीले है शिकवे है रुषवाई है तन्हाई है।

कहना तो बहुत कुछ था उससे,
पर BYE बोल के उसने पूरी बात ही कह
डाली !!

अपनी कमी पर शायरी


बर्बादी के अनगिनत पर्चे कमा रक्खे थे हमने मगर
आपने बिछड़ने का जिक्र करके तरक्की ही कर दी

तुम अपनी अच्छाइयों
में मशहूर रहो,
हम बुरे है जनाब, इसीलिए तो
कहते हैं हमसे दूर रहो।

यहाँ प्यार करना नहीं है मना
बस उसका इंजहार करना ही गुनाह।

मेरी कमी शायरी 


आख़िर उसने कह दिया
चले जाओ मेरी जिंदगी से
रोकर जाओ या खुशी से
अब तुझसे मेरा वास्ता नहीं
अब हमारा एक रास्ता नहीं
आखिर उसने कह ही दिया
आखिर मैंने सुन ही लिया
आखिर मैंने सह ही लिया।

कमी तो कुछ नही फिर भी
एक उदासी छाई है
लगता है खुशियों में
गम की अंगड़ाई है।

मीठे स्वर भी मानो
चुभते है अपनो को

आप की कमी शायरी


दिल मे कही दरार आई है।
भीड़ में भी तनहाई छाई है।

दर्पण में देखूं खुद को जब
चेहरे पे हसी, दिल मे गहराई है।

कमी तो कुछ नही फिर भी
एक उदासी छाई है।

किसी की कमी शायरी


बहुत कोशिश करी तुझे मनाने कि, की अब खलती
नहीं कमी तेरे दूर जाने की।

तेरी हर बात को हमने तवन्नो दिया था, खटकता है
दिल में आज भी, जैंसे तूने नजरोंदाज किया था ।

कहते थे इस शहर में दम घुटता हैं मेरा, लो आज तेरे
ही शहर में बसा लिया हमने डेश!

तेरी कमी शायरी


खुश थे बहुत तुम किसी ओर के गले में बहें डाल के,
तो क्यों कहते हो याढ़ आता है तेरी बाहों का वो घेरो।

जान कर भी ठुकरा दिया था मुझे, ठोकर लगी तो
कहते हो सच्चा प्यार था मेश।

कुछ कमी नहीं यहां- कुछ तो कमी बाकी है,
कोई पाया अपने हिस्से का जहां
किसी के हिस्से का जहां अभी बाकी है।

आप की कमी शायरी


फितरत में इंसान जिया दूसरों के लिए,
किसी के हिस्से का दिन गुज़रा
किसी के हिस्से की रात अभी बाकी है।

किसी के हिस्से की बात ख़त्म
पर किसी की बातो का हिसाब अभी बाकी है।

कमी तो कुछ नहीं खुद को पूरा
करने की कोशिश कर रहा हूं,

कुछ कमी सी है शायरी


जिंदगी की किताब में कुछ पन्ने
जोड़ने की कोशिश कर रहा हूं,

कुछ कहानियां अभी है बाकी
लिखने की कोशिश कर रहा हूं।

Miss You Shayari


बस चल रहा हूं की अब मंज़िल नज़र आ जाए,
कमी तो कुछ नहीं ये सफर आसान हो जाए।।

तुम्हारी कमी मुझे ऐसे लगती है जैसे बिं बरसात खेत जैसे बिन चिड़िया आसमान यह सब धुआ सा लगता है ।

Final Word on किसी की कमी शायरी,प्यार में कमी शायरी, अपनी कमी पर शायरी, मेरी कमी शायरी, आपकी कमी शायरी, तुम्हारी बहुत याद आती है शायरी, कमी महसूस शायरी, कमी की शायरी, तेरी कमी शायरी



आज हमने आपके साथ अपनी तुम्हारी कमी शायरी पोस्ट को शेयर किया है जिससे आपके मन कि कमी को दूर करने की पूरी कोशिश की।

अगर आपको ऐसी ही और पोस्ट के लिए हमारे sahelistatus की वेबसाइट को बुक मार्क कर सकते हो और तुम्हारी कमी शायरी में सबसे बेस्ट शायरी को हमें कमेंट करके बता सकते हो जिससे हमें पता चले कि आपको कौन सी शायरी सबसे ज्यादा पसंद आयी है 

आप अपने विचारो को हमारे साथ शेयर कर सकते है जिससे हम आपकी वेबसाइट को ओर बेहतर बना सकते है
आपका हमारी पोस्ट तुम्हारी कमी शायरी पढ़ने के लिए बहुत बहुत सुकरिया। 

Post a Comment

0 Comments